Thursday, September 10, 2009

सुबह, बारिश और मैं / at nine on a rainy morning

9:00

बारिश होती तो बाहर है पर पता नही नींद को कैसे पता चल जाता है के वो और मीठी हो जाती है। सुबह जब से उठा हूँ, बारिश धूप की तरह छाई हुई है। एक गहरी, ग्रे धूप जो रोजमर्रा की चीजों को खुशनुमा बना देती है, काले चश्मे की तरह।

कुछ तो जादू है बारिश में। दिल में जो चल रहा होता है उसको और गहराई तक खंगाल कर बाहर ले आती है। दिल गमगीन है तो बारिश रुआंसा कर के छोड़ेगी ही। और दिल खुशगवार है तो समझ लीजिये के पूरा दिन गुनगुनाते हुए जाएगा। हर शख्स की dominant traits बारिश में साफ़ उभर के सामने आ जाती हैं। गोया बारिश कोई आईना हो जो सच दिखलाता हो हर किसी के भीतर का!

अभी एक घंटे पहले उठा हूँ और बिल्कुल भी मन् नही है ऑफिस जाने का। माँ ने खिड़की पर परदे डाले, तो मना कर दिया ये कह कर के, खिड़कियों से दिखती ये बरसती बारिश अच्छी लगती है। एक प्याली चाय की, बेसन के दो पकौड़े और श्री राही मासूम रज़ा की शायरी का संकलन हाथों में। अभी तक की सुबह का तो यही फ़साना है।

बाहर बारिश और हाथ में शायरी की किताब, कैसे ये दिल रूमानी न होता? खैर, ये आवारागर्दी ज्यादा देर चलेगी नहीं। अभी बुलावा आ जाएगा ऑफिस से के टाइम पर पहुंचें हुज़ूर, काफी काम है आज। पेरिस वालों को जरूरत है दिल्ली वालों की!

थोडी देर में ये कलम नौकरी कर रही होगी। पर हाँ, याद जरूर रहेगी ये सुबह, जब बारिश ने कान में फुसफुसा कर कहा था, क्यों न थोड़ी देर और लिख लो मुझे तुम...

9:15

16 comments:

Nadhiya said...

you know wat adee, you write it really beautiful...

Rain, window, sleep, chai, shayari and then office ...

Kash u were on leave, v would ve had a lengthy note..

Though my understanding of complex hindi words is limited, i could still understand wat u were conveying...

Beautiful ...

Love you
Hugs
bugs
nadhi
:)

Nadhiya said...

n c d title ... at nine on a rainy morning ..! so sweet

Its sunny outside here .. :(


:)
love
nadhi

*Aham* said...

love the connotation.


love u

mageshcse said...

nice writing yaar :) i too have experienced similar feeling few days ago :)

Ritesh Verma said...

adeee u have inspired me to write a blogpost in hindi too..had a wonderful time reading those words..will definitely retweet buddy
Regards,
Ritesh

serendipity said...

nice work, simply stated ! i felt your moment (s) sipping tea/ hearing the pitterpatter of the raindrops/
simple prosaic moments turned poetic!

Himanshu said...

lovely post! I used to write in hindi too u know...may be have a few posts in my archives... :)

Baarish dhoop ki tarah chhai hui hai..loved the line! :)

RAJI MUTHUKRISHNAN said...

Lovely

rahul anand said...

very beautiful creation..baarish ka kuch to fayda hua :)

How do we know said...

:-) Sab Rahi Masoom Raza ki galti hai..

Srushti Rao said...

Hey, got to read it only today... beautifully written... I know what rains can do to you...

Kucch roomani si hoti hai yeh baarish bass dil mein ek halchal macha jaati hai...

Cheers!!!

Esha said...

arre.. where is my comment?

HallucinatingSapience said...

Interesting. I love reading daily diaries and this one sure is up on my list. Nice and easy. you can follow me up at:

visithallucinatingsapience

Yoli said...

I honestly wish I could read it.

Ash said...

Please provide a translation Adi!

Gillian said...

Oh yeah. That was beautiful.
Actually I'm only guessing, because everything you write is, but translations work wonders for us Canadians!!! :)
Come on Adeeeeee!!!!! xoxo

dreamt before

Related Posts Widget for Blogs by LinkWithin