Saturday, August 06, 2011

पैगम्बर


चमकती तीरगी की बेरहमी
जब हद से बढ़ जाती है
चीखती खामोशियों की गर्मी
जब झुलसा देती है तहज़ीब के पनपते बीज
और कुछ कहने और सुनने को
बचता नहीं ख्याल की बंजर ज़मीन पर
...
तेरी रहमत का भेजा एक मासूम सा कतरा
जन्म लेता है इस वीरान कागज़ पर
और नज़्म कहलाता है

6 comments:

How do we know said...

Beautiful!!! this is classic Adee that we love so much! Pls make sure this one is a part of the book..

Shruti Mehendale said...

"चीखती खामोशियों की गर्मी जब झुलसा देती है तहज़ीब के पनपते बीज" beautiful lines so apt ...

keep penning down you have a unique way of expressing your thoughts ...

Shruti....

Adee said...

howdy: shukriya janab :)

shruti: thanks! and yeah, these lines i like a lot as well :)

Sri Harsha said...

i can only say, wah!!

AaaDee said...

wah wah wah !!

Adee said...

Sri sir: thanks :)

AD: :)

dreamt before

Related Posts Widget for Blogs by LinkWithin